विदेश

पाकिस्तान में तोड़ी गई महाराजा रणजीत सिंह की मूर्ति

लाहौर। पाकिस्तान के लाहौर में महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को एक बार फिर से तोड़ दिया गया है। आरोप है कि पाकिस्तान के कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक के कार्यकर्ता ने महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ा।

महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा लाहौर किले में रानी जिंदां की हवेली में स्थापित की गई है, प्रतिमा में महाराजा रणजीत सिंह घोड़े पर बैठे हुए दर्शाए गए हैं, लेकिन कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक के कार्यकर्ता ने घोड़े की पीठ पर स्थापित महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़कर नीचे गिरा दिया। पहले भी दो बार तहरीक-ए-लब्बैक कार्यकर्ता इस प्रतिमा को तोड़ चुके हैं।

पाकिस्तान की पत्रकार नायला इनायत ने उस वीडियो को शेयर किया है जिसमें हरीक-ए-लब्बैक कार्यकर्ता महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ता हुआ नजर आ रहा है। तस्वीर में साफ देखा जा सकता है कि किस तरह से महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को निशाना बनाया गया है।

हमलावर ने पहले महाराज रणजीत सिंह के खिलाफ नारे लगाए और मूर्ति को तोड़कर जमीन पर फेंक दिया। सूचना के मुताबिक मौके पर मौजूद कुछ लोगों ने हमलावर को रोकने की कोशिश भी की पर वो तब तक मूर्ति तोड़ कर जमीन पर फेंक चुका था। रोकने की कोशिश के बावजूद वो मूर्ति तोड़ने में कामयाब हो गया।

कांस्य से बनी 9 फीट की मूर्ति पर महाराजा रणजीत सिंह घोड़े पर बैठे हैं और उनके हाथ में तलवार है। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की निशानियां तक कट्टरपंथी संगठनों के निशानों पर रहती हैं, यह तीसरा मौका है जब इस प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया गया।

पिछले साल दिसंबर में भी एक शख्स ने मूर्ति पर हमला किया था। उसने मूर्ति का हाथ तोड़ दिया था वो भी मूर्ति को और भी नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहा था पर लोगों ने उसे पकड़ लिया था। इसके अलावा एक बार और भीड़ ने मूर्ति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की थी।

Spread the love