मध्यप्रदेश

मिलावट से मुक्ति अभियान के अंतर्गत की गई कार्रवाई





गुणवत्ता में संदेश होने पर जप्त की गई लाखों रूपये की खाद्य सामग्री

इंदौर। कलेक्टर श्री आशीष सिंह के निर्देशन और अपर कलेक्टर श्री गौरव बैनल के मार्गदर्शन में गठित दल द्वारा इंदौर के विभिन्न स्थलों पर नमूना एवं निरीक्षण की कार्रवाई की गई। दल द्वारा इंडस्ट्रियल एरिया सांवेर रोड स्थित आरजे कन्फेक्शनरी का आकस्मिक निरीक्षण किया गया। मौके पर कन्फेक्शनरी निर्माण में उपयोग किये जा रहे रॉ मटेरियल एवं तैयार कन्फेक्शनरी की गुणवत्ता संदिग्ध पाए जाने पर कुल 6 नमूने जाँच हेतु लिए गए। इसके अतिरिक्त निर्माण में प्रयुक्त होने वाले खाद्य रंग टाइटेनियम डाइऑक्साइड की गुणवत्ता संदिग्ध होने पर कुल 40 किलोग्राम मात्रा जिसकी अनुमानित कीमत लगभग 4 हजार रूपये हैं एवं तैयार कन्फेक्शनरी लॉलीपॉप एवं जेली जिनकी कुल मात्रा लगभग 500 किलोग्राम है, जिसकी कुल कीमत लगभग 65 हजार है, को जप्त किया गया। साथ ही एक अन्य संस्थान चैंपियन आइसक्रीम, टिगरिया बादशाह इंदौर का भी औचक निरीक्षण किया गया तथा खाद्य पदार्थ फ्रोजन डेजर्ट के दो नमूने लिए गए एवं कुल मात्रा 165 लीटर को गुणवत्ता पर संदेह होने पर जप्त किया गया।

इसी तरह टीम द्वारा पराग एंटरप्राइजेज, नंदलालपुरा पर औचक निरीक्षण की कार्रवाई की गई। मौके पर विक्रेता द्वारा बिना खाद्य पंजीयन के खाद्य कारोबार किया जाना पाया गया। परिसर में विक्रय हेतु रखे खाद्य पदार्थ घी की मोबाइल फूट टेस्टिंग लैब से जांच किए जाने पर प्राथमिक तौर पर घी में वनस्पति की मिलावट होने का संदेह होने पर परिसर में संग्रहित खाद्य पदार्थ घी, वनस्पति, सरसों तेल, मूंगफली तेल के कुल 6 नमूने जाँच हेतु लिए गए। उक्त खाद्य पदार्थ मिलावटी होने के संदेह पर कुल मात्रा 930 किलोग्राम जिनकी कुल कीमत लगभग 2 लाख 75 हजार रूपये है को आगामी कार्रवाई तक जप्त किया गया। साथ ही बिना खाद्य पंजीयन के खाद्य कारोबार करने के कारण खाद्य पंजीयन प्राप्त करने तक खाद्य कारोबार को बंद कराया गया। सभी नमूनों को जांच हेतु राज्य खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला भोपाल की ओर भेजा जा रहा है, जिनकी रिपोर्ट प्राप्ति उपरांत वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

Share With